गुर्दे की पथरी का इलाज, लक्षण व कारण

Kidney Stone in Hindi | गुर्दे की पथरी का इलाज, लक्षण व कारण

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn

गुर्दे की पथरी की परिभाषा

गुर्दे में पथरी बनने को नेफ्रोलिथियासिस कहा जाता है। मूत्रवाहिनी में पथरी बनने को यूरोलिथियासिस कहा जाता है। गुर्दे की पथरी गुर्दे में पथरी का निर्माण है। गुर्दे की पथरी का वैकल्पिक नाम है – रीनल लिथियासिस नेफ्रोलिथियासिस गुर्दे की पथरी।

गुर्दे की पथरी के प्रकार


कैल्शियम स्टोन – सबसे आम गुर्दे की पथरी। कैल्शियम के साथ मूत्र की संतृप्ति के कारण होता है।
ऑक्सालेट स्टोन – अत्यधिक ऑक्सालेट आहार के कारण। उदा. – टमाटर, बैंगन।
यूरिक एसिड स्टोन – प्यूरीन आहार के अत्यधिक उपयोग और गाउट के कारण।
सिस्टीन स्टोन – सिस्टीन क्रिस्टल बनने के कारण।
स्ट्रुवाइट पत्थर – महिलाओं में सबसे आम। बैक्टीरिया को विभाजित करने के कारण।


गुर्दे की पथरी के कारण :-

  • नैदानिक परीक्षा
  • इतिहास संग्रह और शारीरिक परीक्षा।
  • मूत्र विश्लेषण
  • यूरिन कल्चर टेस्ट
  • मूत्र दिनचर्या और संस्कृति परीक्षण
  • सिस्टोस्कोपी परीक्षा
  • अंतःशिरा पाइलोग्राफी (आईवीपी)
  • पेट का यूएसजी
  • एक्स-रे
  • सीटी स्कैन और एमआरआई
  • प्रतिगामी पाइलोग्राफी
  • 24 घंटे मूत्र संग्रह
  • अन्य प्रयोगशाला जांच।

किडनी स्टोन में काम आने वाली मेडिसिन / टेबलेट्स

एंटीस्पास्मोडिक दवा – बुस्कोपैन।
कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवा – सूजन और एडिमा के इलाज के लिए।
एनएसएआईडी – दर्द का इलाज करने के लिए। चतुर्थ तरल पदार्थ
एंटीमेटिक्स दवा – उल्टी के इलाज के लिए।
ज्वरनाशक – बुखार के इलाज के लिए।
प्रोटॉन पंप निरोधी।

किडनी स्टोन का ऑपरेशन कसे होता है

सिस्टोस्कोपी – यह एक निदान और चिकित्सीय प्रक्रिया है। मूत्रमार्ग के माध्यम से मूत्राशय की कल्पना करें।
पर्क्यूटेनियस लिथोट्रिप्सी – पर्क्यूटेनियस लिथोट्रिप्सी नेफ्रोस्कोपी या सिस्टोस्कोपी द्वारा की जा सकती है।

लेज़र लिथोट्रिप्सी – गुर्दे की पथरी को नष्ट करने के लिए बाहरी लेज़र का उपयोग किया जाता है।
एक्सट्रॉकोर्पोरियल शॉक वेव लिथोट्रिप्सी (ESWL) – पथरी का टूटना।
लिथोटॉमी – मूत्र पथ और गुर्दे से पथरी को सर्जिकल रूप से हटाना।
Ureterolithotomy – मूत्रवाहिनी से ट्यूमर को हटा दें।
नेफ्रोलिथोटॉमी – किडनी से ट्यूमर को हटाना।

पथरी का ऑपरेशन मे होने वाली प्रॉब्लम

उलझन
वृक्कीय विफलता
जल मूत्रवाहिनी
हाइड्रोनफ्रोसिस
संक्रमण।

हॉस्पिटल में होने वाला नर्सिंग Treatment

  • नर्स मरीजों के महत्वपूर्ण संकेतों की निगरानी करती हैं और मूत्र उत्पादन का आकलन करती हैं।
  • नर्स संक्रमण के संकेतों के लिए बुखार का आकलन करती है।
  • नर्स मूत्र के नमूने एकत्र करती हैं और किडनी विकारों के लिए विश्लेषण करती हैं।
  • संक्रमण को रोकने के लिए रोगी को अत्यधिक तरल पदार्थ का सेवन करने के लिए प्रोत्साहित करें।
  • सीरम कैल्शियम स्तर और यूरिक एसिड स्तर की निगरानी करें।
  • निर्धारित दवाएं और चतुर्थ तरल पदार्थ प्रदान करें।
  • नर्स संशोधित आहार सेवन।
  • दर्द दूर करने के लिए गर्म सेक करें।
  • रोगी को दैनिक गतिविधि और व्यायाम के लिए शिक्षित करें।
  • आहार प्रतिबंध के बारे में निर्देश प्रदान करें।
  • नर्स मरीज को सर्जिकल हस्तक्षेप के लिए तैयार करती है।
  • स्वास्थ्य शिक्षा और जागरूकता प्रदान करें।

किडनी स्टोन से संबदित मोस्ट इम्पोर्टेन्ट पॉइंट.

गुर्दे में पथरी बनने को – नेफ्रोलिथियासिस कहा जाता है।
मूत्रवाहिनी में पथरी बनने को – यूरोलिथियासिस कहा जाता है।
गुर्दे की सबसे आम पथरी है – कैल्शियम ऑक्सालेट पथरी।
गुर्दे की पथरी प्यूरीन आहार के कारण होती है – यूरिक एसिड पथरी।
गुर्दे की पथरी का प्रमुख कारण – शरीर में पानी की कमी।
– पुरुषों में यूरिक एसिड स्टोन अधिक पाया जाता है।
महिलाओं में गुर्दे की कौन सी पथरी अधिक पाई जाती है – स्ट्रुवाइट पथरी।
गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए सामान्य सर्जरी – लिथोट्रिप्सी।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

1 thought on “Kidney Stone in Hindi | गुर्दे की पथरी का इलाज, लक्षण व कारण”

Leave a Comment

Trending Results

Download Nursing Study Notes In PDF